बाल-मंदिर परिवार

हमारे सम्मान्य समर्थक

शुक्रवार, 9 दिसंबर 2011

डा. अजय जनमेजय की लोरी


 लोरी : डा. अजय जनमेजय 


चलो लाल अब तुम्हें सुलाऊँ,
  प्यारी लोरी  गाऊँ.   

खेल -कूद में बीत गया दिन,
किसको पता चला ?
हँसते-गाते शोर मचाते,
आया खूब मजा.
आ जा मेरे नटखट नंदन, 
झुला तुझे झुलाऊँ.

किसी मेमने के पीछे क्या,
भागे उसे पकड़ने ?
छोटी-छोटी बातों पर क्यों 
तुम सब लगे झगड़ने ?
दिन के गिले , खेल के सारे,
हँस-हँस कर सुलझाऊँ.  

 डा. अजय जनमेजय
जन्म : २८ नवम्बर, १९५५
बाल साहित्य के सुप्रसिद्ध लेखक
बच्चों के लिए कविता-कहानी की पुस्तकें प्रकाशित. 
कई सम्मान प्राप्त
संपर्क : ४१७, राम बाग, बिजनौर(उ.प्र.)
----------------------------------------
चित्र में : कुबेर अंकुर अपनी दादी के साथ 

8 टिप्‍पणियां:

टिप्पणी के लिए अग्रिम आभार . बाल-मंदिर के लिए आपके सुझावों/ मार्गदर्शन का भी सादर स्वागत है .