बाल-मंदिर परिवार

हमारे सम्मान्य समर्थक

शनिवार, 26 दिसंबर 2015

मैं हूँ सेंटा क्लाज - राहुल अवस्थी 'शाहजहाँपुरी'



आओ बच्चों- आओ बच्चों

मैं हूँ सेंटा क्लाज ।
खेल खिलौने तरह- तरह के ,
तुम्हे मिलेंगे आज ।
छुक- छुक करती रेल चाहिए
या फिर मोटर गाड़ी ।
परियों वाली गुडिया लोगे,
या फिर प्लेन सवारी ।
जो चाहोगे वो पाओगे,
बहुत लगा है ढेर ।
मन चाहा हर गिफ्ट मिलेगा,
नही लगेगी देर ।
आज करो मनमानी कर लो,
जी भर कर शैतानी ।
नही रुकावट कोई होगी,
काहे की हैरानी ।
बच्चों का प्यारा बचपन ही
है प्रभु की पहचान ।
मैं हूँ सेंटा क्लाज चाहता
बनो नेक इन्सान ।

राहुल अवस्थी 'शाहजहाँपुरी'
इंदिरा नगर
शाहजहांपुर 242001
(उ. प्र.)
मोबाईल न. 094152 48945
---------------------------------
यह राहुल की पहली बाल कविता है।

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

टिप्पणी के लिए अग्रिम आभार . बाल-मंदिर के लिए आपके सुझावों/ मार्गदर्शन का भी सादर स्वागत है .