बाल-मंदिर परिवार

हमारे सम्मान्य समर्थक

रविवार, 26 दिसंबर 2010

शेर की मौसी

बाल रचना 

 सृजन पांडेय 

बिल्ली मौसी  बिल्ली मौसी ,   
हर दिन तुम आ जाती हो ,
दूध अगर मिल जाता तुमको 
उसको तुम पी जाती हो 
मिल जाता है चूहा तुमको ,
उसको चट कर जाती हो .  
शेर की मौसी  हो तुम 
इसलिए गुर्राती हो 
बिल्ली मौसी , बिल्ली मौसी ,   
हर दिन तुम आ जाती हो

1 टिप्पणी:

  1. बहुत अच्छा, अति सुन्दर प्रस्तुति।
    साधुवाद।
    आनन्द विश्वास

    उत्तर देंहटाएं

टिप्पणी के लिए अग्रिम आभार . बाल-मंदिर के लिए आपके सुझावों/ मार्गदर्शन का भी सादर स्वागत है .