बाल-मंदिर परिवार

हमारे सम्मान्य समर्थक

गुरुवार, 30 दिसंबर 2010

नटखट बंदर


शिशु गीत :डा. राजीव पांडेय



नटखट बंदर
है अलबेला ,
छीन झपट कर
खाए केला .
जब भर जाता
पूरा पेट ,
तब जाता वह
उल्टा लेट
***
व्यवसाय से चिकित्सक
डा. राजीव पांडेय जी की
बच्चों के लिए दो पुस्तकें प्रकाशित हो चुकी हैं .
संपर्क : डाकघर के सामने , पुवायां , शाहजहांपुर (उ. प्र.)

4 टिप्‍पणियां:

  1. नटखट बन्दर पर सरल सहज शिशुगीत के लिए डा. पांडे को बधाई .

    उत्तर देंहटाएं
  2. कित्ता प्यारा गीत..मजा आ गया.

    ____________________
    'पाखी की दुनिया' में भी आपका स्वागत है.

    उत्तर देंहटाएं
  3. पाण्डे जी चिकित्सक हैं और इतना अच्छा बाल साहित्य लिखते हैं . उनकी अन्य रचनाओं की प्रतीक्षा रहेगी .

    उत्तर देंहटाएं

टिप्पणी के लिए अग्रिम आभार . बाल-मंदिर के लिए आपके सुझावों/ मार्गदर्शन का भी सादर स्वागत है .