बाल-मंदिर परिवार

हमारे सम्मान्य समर्थक

रविवार, 6 नवंबर 2011

लोरी : डा. गणेश दत्त सारस्वत

निन्ना  रानी
निन्ना  रानी आओ, 
सपनों को संग  लाओ.
बुला रही  है गुडिया,
आकर उसे सुलाओ.
गर्मी बहुत  सताती, 
रह रह कर जमुहाती.
आँखे भारी-भारी,
फिर भी नींद न आती.
आओ जल्दी आओ,
देरी नहीं लगाओ.
परियों से  मिलवाओ,
मीठी लोरी गाओ. 

डा. गणेश दत्त सारस्वत

जन्म : १० सितम्बर,1936 , बिसवां, सीतापुर  

शिक्षा : एम्. ए.(हिंदी), 
प्रकाशित कृतियाँ :
 जागो भैया, डाक्टर बाबा,खेलें खेल,करनी ठीक रखो, गुडिया हो गयी सयानी
 आदि बच्चों की कविता पुस्तकें   
आर.  एम्. पी. जी. कालेज , सीतापुर में हिंदी विभाग   के अध्यक्ष रहे. 
हिंदी सभा के माध्यम से बाल साहित्य को लेकर कई आयोजन किए.
 सीतापुर में आकस्मिक निधन 

4 टिप्‍पणियां:

  1. बहुत ही बढि़या।

    कल 09/11/2011 को आपकी यह पोस्ट नयी पुरानी हलचल पर लिंक की जा रही हैं.आपके सुझावों का स्वागत है।

    धन्यवाद!

    उत्तर देंहटाएं

टिप्पणी के लिए अग्रिम आभार . बाल-मंदिर के लिए आपके सुझावों/ मार्गदर्शन का भी सादर स्वागत है .