बाल-मंदिर परिवार

हमारे सम्मान्य समर्थक

बुधवार, 8 जून 2011

चूहेमल का देखो खेल - कन्हैया लाल मत्त




चूहेमल का देखो खेल , 
चले ऊँट की पकड़ नकेल . 
बुड- बुड-बुड-बुड बोला ऊँट - 
''मुझे पिला पानी दो घूंट .'' 
========
कन्हैया लाल मत्त 
हिंदी बाल साहित्य के सशक्त  हस्ताक्षर  . बच्चों के लिए मजेदार शिशुगीत लिखे . गाजियाबाद में रहते थे. 

चित्र साभार - गूगल सर्च 

9 टिप्‍पणियां:

  1. बहुत सुन्दर और रोचक बाल गीत..

    उत्तर देंहटाएं
  2. वाकई, यह तो मजेदार गीत है...
    ___________________

    'पाखी की दुनिया ' में आपका स्वागत है !!

    उत्तर देंहटाएं
  3. ख़ूबसूरत चित्र के साथ बहुत सुन्दर बाल गीत!

    उत्तर देंहटाएं
  4. बहुत मज़ेदार, बहुत ही प्यारी कविता

    उत्तर देंहटाएं
  5. सरल,सहज व गेय शिशु गीत।
    सुधा भार्गव

    उत्तर देंहटाएं

टिप्पणी के लिए अग्रिम आभार . बाल-मंदिर के लिए आपके सुझावों/ मार्गदर्शन का भी सादर स्वागत है .