बाल-मंदिर परिवार

हमारे सम्मान्य समर्थक

मंगलवार, 28 अप्रैल 2020

दिव्यांशी की पहली कविता 'आने वाले हैं सर !'

आने वाले हैं सर 
कविता : दिव्यांशी शर्मा
पंखा चलता सर सर सर,
आने वाले हैं मेरे सर।
पूछेगें, 'क्या है करसर?'
तब घूमेगा मेरा सर!
जैसे धरती लगाए चक्कर,
देखूँगी मैं इधर-उधर ।
तभी दिखेगा कम्प्यूटर,
आ जाएगा आंसर।
दिव्यांशी शर्मा
कक्षा 4
रेयान इंटरनेशनल स्कूल,
शाहजहाँपुर

7 टिप्‍पणियां:

  1. नया सोच, नया विषय,सरल सहज रचना। शुभकामनाएं प्रकाश तातेड़ उदयपुर

    जवाब देंहटाएं
  2. प्यारी बिटिया की उससे भी प्यारी कविता

    जवाब देंहटाएं
  3. अच्छी कविता , बिटिया को बधाई

    जवाब देंहटाएं
  4. सुखद एवं सराहनीय प्रयास।👍👍

    जवाब देंहटाएं
  5. प्यारी कविता, बाल काव्य के सुखद भविष्य की ओर इंगित करती है।

    जवाब देंहटाएं

टिप्पणी के लिए अग्रिम आभार . बाल-मंदिर के लिए आपके सुझावों/ मार्गदर्शन का भी सादर स्वागत है .