बाल-मंदिर परिवार

हमारे सम्मान्य समर्थक

मंगलवार, 8 फ़रवरी 2011

पतंगबाज़ों की गोंददानी - रावेंद्रकुमार रवि



पतंगबाज़ों की गोंददानी

चावल की दुकान पुरानी,
मंडी में जानी-पहचानी.
इस पर बैठे बेचें चावल,
झुनकू के चाचा रमजानी.

आँगन में चुगती है चावल,
नन्ही-छोटी चिड़िया रानी.
बहुत प्रेम से खाती इसकी,
खिचड़ी नन्ही गुड़िया रानी.

खीर पकाकर खाते इसकी,
बिन दाँतों के नाना-नानी.
सबका मन ललचाने लगता,
सूँघ पुलाव की महक सुहानी.

चावल की कचरी से लगती,
होली की नमकीन सुहानी.
भात भी बनता सबसे बढ़िया,
पतंगबाज़ों की गोंददानी.

रावेंद्रकुमार रवि 

जन्म : २ मई , १९६६ को बरेली में
-- प्रकाशित पुस्तकें --
चकमा, नन्हे चूज़े की दोस्त, वृत्तों की दुनिया.
सरस पायस के संपादक
संपर्क : राजकीय उच्चतर माध्यमिक विद्यालय, चारुबेटा,
खटीमा, ऊधमसिंहनगर, उत्तराखंड (भारत)
------------------------------------------------------------------------
चित्र : गूगल सर्च से साभार

5 टिप्‍पणियां:

  1. वाह, नागेश भाई!
    आपने तो आज दिल को ख़ुशियों से भर दिया!
    --
    पतंगबाज़ी के उन दिनों के साथ-साथ
    कई पुरानी यादें ताज़ा हो गईं!
    --
    वसंत पंचमी की इस उत्प्रेरक बेला में
    मन उत्साहित कर दिया!
    --
    इस सम्मान और स्नेह के लिए आभारी हूँ!

    उत्तर देंहटाएं
  2. रावेंद्रकुमार रवि को बहुत-बहुत बधाई!
    यह वर्णनात्मक बालगीत बहुत बढ़िया रहा!
    बसन्तपञ्चमी की शुभकामनाएँ!

    उत्तर देंहटाएं
  3. माँ सरस्वती को नमन........बसंत पंचमी की हार्दिक शुभकामनायें
    रवि अंकल की सुंदर कविता के लिए धन्यवाद.....

    उत्तर देंहटाएं
  4. बढ़िया ... है भाई साहब । बधाई ।

    उत्तर देंहटाएं
  5. अच्छी कविता है रावेंद्र, जिसमें झुनकू के चाचा रमजानी का जिक्र जी खुश कर गया। तुमने मेरे ब्लाग पर कमेंट किया है, डा. शेरजंग गर्ग के शिशुगीतों वाली पोस्ट में। उस पर कुछ आत्मीयता भरे शब्द मैंने लिखे हैं तुम नई पीढ़ी के उत्साही रचनाकारों के लिए। वहीं से पढ़ लेना। सस्नेह, प्र.म.

    उत्तर देंहटाएं

टिप्पणी के लिए अग्रिम आभार . बाल-मंदिर के लिए आपके सुझावों/ मार्गदर्शन का भी सादर स्वागत है .