बाल-मंदिर परिवार

हमारे सम्मान्य समर्थक

रविवार, 13 अप्रैल 2014

टोपी

कविता- उर्मिला गायकवाड़ 
दादा जी की टोपी भैया ,
अपने सिर पर रखकर।
अपने घर में इधर-उधर फिर, 
खूब  मारता चक्कर।
जो भी मुझको दिखता उसको 
कहता , अजी नमस्ते! 
आप  समझते हमको क्या ?
बतलाओ, हँसते-हँसते। 
उर्मिला गायकवाड
जन्म तिथि १२ फ़रवरी १९७६
 शिक्षा--एम्.ए हिंदी,अंग्रेज़ी
बाल कहानियों पर शोध कार्य  
 अध्यापिका--इंदिरा नेशनल स्कूल,
वाकड़,पुणे

चित्र साभार गूगल 

कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें

टिप्पणी के लिए अग्रिम आभार . बाल-मंदिर के लिए आपके सुझावों/ मार्गदर्शन का भी सादर स्वागत है .