बाल-मंदिर परिवार

हमारे सम्मान्य समर्थक

बुधवार, 18 मई 2011

लगी पूंछ में आग




शिशुगीत : डा. आर. पी. सारस्वत 
नकली पूंछ लगाकर गोलू 
बने वीर  हनुमान 
जा रावण -दरबार वहां पर 
किया राम गुणगान . 
गदा घुमा कर गोलू भैया 
ठोक रहे थे ताल .
डर के मारे लंका वालों
 का था पतला हाल . 
रावण के कहने पर ज्यों ही
 लगी पूंछ में आग . 
नकली पूंछ फेंक कर गोलू 
गए वहां से भाग . 
चौपट हुयी रामलीला तब 
बच्चे हँसे ठठाकर . 
गोलू था डरपोक , हुई 
गलती हनुमान बनाकर . 
डा. आर. पी. सारस्वत 
जन्म : 1 अप्रैल , 1954 ,मथुरा 
प्रकाशित बाल कविता संग्रह :
 नानी का गाँव , चटोरी चिड़िया 
संपर्क : पन्त विहार , सहारनपुर 
मो.-9897792500


चित्र गूगल सर्च से साभार 

3 टिप्‍पणियां:

  1. हा हा हा बहुत सुन्दर डरपोक गोलू की बाल कविता

    उत्तर देंहटाएं
  2. बढ़िया, सचमुच बढ़िया और नाटकीय। कविता पढ़कर बच्चों के साथ मिलकर हा-हा-हा करके हँसने का मन हो आया। सस्नेह, प्र.म.

    उत्तर देंहटाएं

टिप्पणी के लिए अग्रिम आभार . बाल-मंदिर के लिए आपके सुझावों/ मार्गदर्शन का भी सादर स्वागत है .