बाल-मंदिर परिवार

हमारे सम्मान्य समर्थक

मंगलवार, 28 अप्रैल 2020

दिव्यांशी की पहली कविता 'आने वाले हैं सर !'

आने वाले हैं सर 
कविता : दिव्यांशी शर्मा
पंखा चलता सर सर सर,
आने वाले हैं मेरे सर।
पूछेगें, 'क्या है करसर?'
तब घूमेगा मेरा सर!
जैसे धरती लगाए चक्कर,
देखूँगी मैं इधर-उधर ।
तभी दिखेगा कम्प्यूटर,
आ जाएगा आंसर।
दिव्यांशी शर्मा
कक्षा 4
रेयान इंटरनेशनल स्कूल,
शाहजहाँपुर

8 टिप्‍पणियां:

  1. नया सोच, नया विषय,सरल सहज रचना। शुभकामनाएं प्रकाश तातेड़ उदयपुर

    जवाब देंहटाएं
  2. प्यारी बिटिया की उससे भी प्यारी कविता

    जवाब देंहटाएं
  3. अच्छी कविता , बिटिया को बधाई

    जवाब देंहटाएं
  4. सुखद एवं सराहनीय प्रयास।👍👍

    जवाब देंहटाएं
  5. प्यारी कविता, बाल काव्य के सुखद भविष्य की ओर इंगित करती है।

    जवाब देंहटाएं
  6. Thank you for taking the time to publish this information very usefully!

    जवाब देंहटाएं

टिप्पणी के लिए अग्रिम आभार . बाल-मंदिर के लिए आपके सुझावों/ मार्गदर्शन का भी सादर स्वागत है .