बाल-मंदिर परिवार

हमारे सम्मान्य समर्थक

रविवार, 26 दिसंबर 2010

परी दीदी आओ

बाल रचना
सृजन पांडेय 

परी दीदी आओ न 
जल्दी हमें सुलाओ न .
निदिया में हमको तुम 
अच्छे सपने दिखाओ न 
चाकलेट के पहाड़ , लड्डू के पेड़ ,
दूध के झरने दिखाओ न 
परी दीदी आओ न .
जल्दी हमें सुलाओ न .

कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें

टिप्पणी के लिए अग्रिम आभार . बाल-मंदिर के लिए आपके सुझावों/ मार्गदर्शन का भी सादर स्वागत है .