बाल-मंदिर परिवार

हमारे सम्मान्य समर्थक

रविवार, 26 दिसंबर 2010

तितली रानी


 बाल रचना 
सृजन पाण्डेय

तितली रानी तितली रानी
कितनी अच्छी लगती हो
नीली ,पीली,हरी ,गुलाबी
सब रंगों की होती हो
फूलो पर मंडरा-मंडरा कर
उनका रस पी लेती हो
जब कोई पकड़ता तुमको
दौड़ाती हो बहुत उसको .

कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें

टिप्पणी के लिए अग्रिम आभार . बाल-मंदिर के लिए आपके सुझावों/ मार्गदर्शन का भी सादर स्वागत है .